Tuesday, November 7, 2017



मन को हांकना भी एक कला है। परीक्षा से पहले विषयों को बदल बदल कर पढ़ाई करने की सलाह आमतौर पर अनुभवी लोगों के द्वारा दी जाती है।

उसी तरह किसी बात को लेकर लगातार सोचते रहने के बाद होने वाली मानसिक स्थिति से सामना करने का एक तरीका यह होता है कि सोचने की दिशा पूरी तरह बदल दी जाए।

कुछ ऐसा ही इस दिन हुआ और फिर तय हुआ कि क्यूं न मछली बनाई जाए! मछली बनाना जितना मेहनत का काम लगता है उतना है नहीं।

सबसे पहले मछली को अच्छे से बरतन में रखकर थोड़ा नमक मिलाकर उसे अच्छे से धो लें।




अब एक चम्मच काला सरसों, दो लहसून, एक प्याज और एक सूखी मिर्च रख लें।  ग्रेंडर में इसका लय बना लें।








बर्तन में रखी मछली में थोड़ी हल्दी, नमक और इस लय को मिलाएं।




अब कड़ाही में तेल डालें और इसे तेल खौल जाए तो आंच कम करके मछली को इस तरह लाल होने तल लें।




अब कड़ाही में बचे हुए तेल में बचे लय को डालें और भूने जबतक कि रस मनमुताबिक नहीं हो जाता।





अब इसमें तली हुई मछली को डालें और कम आंच में पकने दें।




अब इसे चावल के साथ परोसें।





और अंत में...










No comments:

Post a Comment