Sunday, November 20, 2011

दूर, बहुत दूर, खूब दूर हूं मैं
देख सकते हो छू नहीं सकते
 

No comments:

Post a Comment