Sunday, November 20, 2011

चलते चलते कब धुप हो गई पता ही नहीं चला
और जब तक पता चला वो सरेआम हो चुके थे.

No comments:

Post a Comment