Monday, October 10, 2011



                                सिनेमा देखकर पापा बिगड़ गये हैं!

        गारजियन लोगों को पिछले एक दशक में कई बार यह कहते सुना हूं कि सिनेमा देखने से बच्चा बिगड़ जाता है। वैसे ही जैसे बच्चों को चाय नहीं पीना चाहिए। खुद हमने घर पर किवाड़ के ओट में छिप कर फिल्में देखी। आलम यह था कि अगर चैनल बदलने के क्रम में जी सिनेमा या सेट मेक्स पर हाथ रूक जाता तो माहौल विचित्र सा हो जाता। पहले जब घर में ब्लैक एंड व्हाइट टीवी था और हमलोग बिगड़ न जाएं इस डर से डिश यानि केबल कनेक्शन नहीं लगाया गया था तब हम लोग कभी कभार छुप कर रविवार को डीडीवन पर चार बजे से फिल्म देख लेते। दीदी लोग को पढ़ाने के लिए संगीत के एक गुरू जी आया करते थे हर रविवार को। जिस रूम में गुरू जी पढ़ाते थे उसी रूम में टीवी था। चूंकि गुरू जी रविवार को ही आते थे इसलिए उनके बहाने हम लोग सिनेमा का थोड़ा भाग देख लेते थे। पापाजी से बात चित करते करते वो दोनों आपस में व्यस्त रहते और मेरा हाथ तबला पर और दिमाग गोविंदा पर रहता था. धा धा ते टे, धा धा तू न, ता ता  ते टे, धा धा तू न...  इस दौर में शायद ही हम भाई बहन शायद ही कभी कोई सिनेमा पूरा देख पाए हों। खैर, वो सब एक इतिहास का पीला पर चुका पन्ना है।
       उसने एक बार कहा था कि धड़कन उसके पापा की फेवरेट मूवी है। मैं उस दिन काफी परेशान हुआ था और पता नहीं क्यूं उसके बाद मैने लेपटाॅप से उस मूवी को डिलीट करने की कई बार सोची लेकिन कर नहीं पाया। हालांकि देख भी नहीं पाया। शिल्पा शेट्ठी का सुनील शेट्ठी को घर पर पापा से मिलाने के लिए बुलाना, फिर पापा द्वारा इस पार या उस पार रहने का अंतिम फरमान सुनाना और शिल्पा का पापा की तरफ आ जाना, सुनील शेट्ठी की मां का दिल का दौरा पर जाने से मर जाना और फिर सुनील का जूनूनी तेवर दिखाते हुए संघर्ष करते हुए एक मुकाम हासिल करके वापस शिल्पा के दरवाजे पर दस्तक देना वगैरह वगैरह! एक समय बेजोड़ लगनेवाली फिल्म अब मुझे जरा भी नहीं सुहाता था। शिल्पा के पिता में हमेशा मुझे उसका पापा नजर आता। अब हालत यह हो गई है कि उस फिल्म का कोई गाना भी सुनता हूं तो मिजाज खराब हो जाता है। आज सुबह उससे बात हुई तो उसने बताया कि उसके पिता ने उसे वैसा ही प्रपोजल दिया है। यानि कि वो अगर मुझसे रिश्ता जोड़ती है तो उसे अपने घर से रिश्ता तोड़ना पड़ेगा। हो न हो उसके पापा पर धड़कन मूवी का बहुत ही कड़ा प्रभाव पड़ा है। 

No comments:

Post a Comment