Friday, September 2, 2011

पडोसी को दया आ गई उन्होंने मेरे कमरे में पंखा लगा दिया. अच्छे लोग आज भी हैं.

No comments:

Post a Comment