Thursday, September 1, 2011


                 युवाओं के नाम को बेचा अन्ना की टीम ने

इण्डिया गेट पर जश्न में शामिल युवा 
      अस्पष्टता परिवर्तन की सबसे बड़ी दुश्मन है इससे आप चलते नहीं बल्कि चलने का भ्रम पैदा करते हैं। भ्रष्टाचार के विरूद्ध हाल में चर्चित हुए अन्ना हजारे का अभियान में भी बहुत कुछ अस्पष्ट है। सबसे अधिक अस्पष्ट इस अभियान में युवाओं की भूमिका है। इस अभियान के पीछे कौन सी शक्ति काम कर रही थी और इसकी फंडिग कौन कर रहा था इसे विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष अशोक सिंघल ने अपने बयान में स्पष्ट कर दिया है। इसी तर्ज पर अब इंतजार है इस अभियान में युवाओं की कथित भूमिका से पर्दा उठने का।
जंतर मंतर में अनशन के बाद आईसीयू में भर्ती एता के किसान  नेता दयाराम
         दरअसल बीबीसी की महिला पत्रकार के बयान के आधार पर इस अभियान में शामिल युवाओं की छवि काफी हद तक असामाजिक तत्वों जैसी बनी है। रही सही कसर अभियान के अंतिम दिनों असामाजिक तत्वों के साथ हुई पुलिस की मारपीट ने पूरी कर दी। ऐसे में ये सवाल जोरदार तरीके से उठ रहा है कि अन्ना हजारे के अभियान में किस प्रजाति के युवा थे। किरण वेदी का पर्स चोरी होना, महिलाओं के साथ बदतमीजी होना, बाइकर्स का निडर होकर स्टंट करना और पुलिस द्वारा मना करने पर अन्ना हजारे के समर्थन में आक्रामक तरीके से नारेबाजी करना, इंडिया गेट पर फिल्म अभिनेता जावेद जाफरी का दौड़ कर भागना, राहुल गांधी के घर पर विरोध करने गए युवाओं द्वारा समोसा और पेय पदार्थ पर टूट पड़ना आदि ने इस अभियान में युवाओं की भूमिका पर संदेह पैदा कर दिया है। सूत्रों की मानें तो रामलीला के आसपास का इलाका असामाजिक तत्वों का गढ़ है ध्यान रहे कि जीबीरोड रामलीला मैदान से कुछ दूरी पर ही है। अन्ना के अनशन के दौरान ज्यादातर युवाओं ने अन्ना अभियान को तमाशे की तरह लिया। गुटों में बंट कर उन्होंने नारेवाजी की और खापीकर खूब तमाशा भी किया। खाने पीने का इंतजाम अन्ना हजारे के अभियान में निशुल्क था जो ऐसे युवाओं को वहां खींचता था। अन्ना टीम के प्रबंधन ने इन युवाओं का दोहरा उपयोग किया। जब तक ये अपने वास्तविक चरित्र में नहीं रहते मंच से कहा जाता रहा कि इस अभियान में युवाओं की सफलता की सबसे बड़ी कुंजी युवा हैं वहीं जब ये युवा अपने वास्तविक चरित्र पे आए तो खुद अरविंद केजरीवाल ने मंच से कहा कि ये साजिश अभियान को बदनाम करने की है। 

No comments:

Post a Comment