Tuesday, July 26, 2011


       मुझे पता नहीं 

सांसें ले जाते हो, कह के कि मज़बूरी थी
ये प्रेम है या प्रेत मुझे पता नहीं   
माएं रोती हैं तो कांपती है धरती 
ये सच है या झूठ मुझे पता नही
रक्तपात करने वाले तुम गंदे हो
राम हो या रहीम मुझे पता नहीं 

No comments:

Post a Comment