Saturday, November 8, 2014

समय से संवाद


                                             इंतजार और सही



प्रिय तुम,

      रोज तुम्हें मिस करता हूं. ऐसे समय में जब हर व्यक्ति दूसरा लगता है, हर शख्स परेशान लगता है, और हर फॉन कॉल एक जवाबदेही देकर ही कटता है, मैं दो पल तुम्हें सोचने में खर्च करता रहता हूं.

      तुम्हारा आना शायद मुमकिन न हो इन परिस्थितियों में, लेकिन इस उम्मीद में कि तुम एक दिन आओगी, हर दिन कटता जाता है.

      टेबल पर जो कोरे कागज पसरे रहते हैं उन्हें मैं रोज कुछ न कुछ लिखकर गंदा कर देता हूं. किसी पर किसी न्यूज का इनपुर, किसी पर किसी का मोबाइल नंबर, किसी पर संक्षिप्त डायरी-शायरी या फिर किसी कागज पर कोई पेंटिंग बैठे-बैठे बनाने लगता हूं. अगली सुबह जब कुर्सी पर बैठता हूं तो सामने कोई कागज कोरा नहीं रहता लिखने के लिए और झल्ला जाता हूं. फिर तुम्हारी कल्पना करके सोचता हूं कि तुम होती तो रोज टेबल पर कुछ कोरे कागज मेरे लिए सहेजकर रख दिया करती ताकि मैं उसे गंदा कर सकूं.

      लिखने की लत पुरानी है. लिख-लिख कर ही तो पूरा दौर काट दिया!

      किसी किसी सुबह अनायास ही तुम्हारी कल्पना करके सोचने लगता हूं कि तुम होती तो याद से मुझे नींद आने के बाद मेरा लैपटॉप बंद कर दिया करती. फिर तुम्हारे मुंह से निकलने वाले अपेक्षित वाक्य को सोचकर थोड़ा रोमांटिक सा हो जाता हूं, 

मैं तुम्हारी नौकरानी नहीं हूं अपना लैपटॉप सोने से पहले बंद क्यूं नहीं करते”!

तुम्हारी कल्पनाओं का पूरा आकाश तैयार किया है मैंने. बस इंतजार है कि उस आकाश से कब तुम बादल बनकर उतरोगी और मुझपर अपना रंग चढ़ा दोगी.

कई बार ऐसा लगता है कि मैं हार जाऊंगा और मुझे ही तुमतक आना होगा सबकुछ त्यागकर. यह दौर दरअसल कौन बनेगा करोड़पति जैसा है! मैं अगर खेलना बंद करूंगा तो मैंने अबतक जितना जीता है उसका एक हिस्सा ही ले जा पाऊंगा.

                                          तुम्हारा मैं

Sunday, October 26, 2014

New phase in Mumbai


                                            Bad Times



I still recall the terror in my nerves and senses when I remind her saying,

“apni bahan se v aise hi baat karte ho kya!”

14th Feb, 2014, I left Delhi for Mumbai.

To me, everything was out of the blue in Mumbai from my quarter to my first live show. I enjoyed well. Rainy season, cooperative colleagues, local experience and everything were special and like a gift for me for what I did in last three years in Delhi during my dire days of struggle.

Everything was fantastic until I gave one book to my female colleague as she wants to read it. I am fond of books and novels and often exchange with others, too.
In the meantime, as my next phase has started after golden eight months of joy, I committed a serious mistake when I poked a female colleague. She was bosom friend of that staff whom I gave my book to read. Things went beyond my control and I had to receive bad words and her anger for my mistake. I was sorry but now things have nothing to do with my “sorry”!



I was thrown in hot water and I had to rescue myself silently so I decided to keep mum and avoid off-time chit-chat with anyone in office.

But, things had totally turned against me. One of my seniors returned one book of mine in the presence of all colleagues and said, “maine padh li ye book.” I stunned because this small incident has directly provoked her (female colleague) who had not returned my book as of now. 

“Yogesh, maine tumhe wo kitab lauta di thi n”, she spoke to me when my senior left the room.

“Nahi”, I replied.

“pata nahi kidhar rakha hoga mujhe rupye hi dene honge ab”, she whispered.

I kept mum and didn’t reply to her whisper.

“Yogesh plz check at your home that I hv given u yo book o nt. As I remember that I hv given u back yo book please check n let me knw”,

I received this whatsapp message at 10:17 PM same day. I decided not to reply as it could kick off a new episode of “diya hai-nahi diya hai-diya hai-nahi diya hai”.
The next morning, however, she appeared at the editorial meeting looking extremely disappointed, having obviously enjoyed confusion why I didn’t respond to her whatsapp. I, on the other hand, had not slept well due to mental pain due to my personal reason, and when morning came, I discovered pain, apathy and unwillingness to go to office in my brain. I was too weak that day.

“tumne mere whatsapp ka reply q nahi diya”, she broke out in presence of Director.

“qki main off time me personal message entertain nahi karta”, I had nothing to say except these bitter words.

Words worked well and added fuel to the fire.

“Apne ghar me aise hi baat karte ho…apni bahan se v aise hi baat karte ho”, she had started and her friend was nodding as sign of endorsement.

Huh!!!

I couldn’t understand how to bring them under normal. I left no stone unturned to maintain things normal but I failed.

Anxiety of both of them about me was revealed only by the number of times they ignored me.

1st of December, 2014. My next phase started in Mumbai!



Tuesday, October 14, 2014

Tips




Interpersonal Communication
Intrapersonal communication takes place within one person. It is meant to reflect oneself to clarify something. There are three concept of intrapersonal communication namely as following:
  1. Self-conception
It is the one of the concepts of intrapersonal communication because it determines how he sees himself and which to oriented to others. It is also known as self-awareness. There are several factors effecting the communication.
a)     Belief
It is self-orientation to know what is true or false, good or bad. It might be descriptive or prescriptive.
b)     Values
Values are integral part of belief to determine what is right or wrong. It is a deep seated foundation lying within the person’s mind and concept.
c)     Attitude
It is a learned idea of the person and it is generally consistent with value. It is often emotional.
  1. Perception
When the self-concept lies internally and perception focuses outward. It is deep rooted in belief, values and attitude. It related and closely intertwined with self-concept to create better understanding of both within and outside the world.
  1. Expectation
It is futuristic oriented message dealing with long term occurrence. People form expectation on the base of the strength of ones learned ideas within the society.
There are different types of intrapersonal communications as following
  1. Internal discourse
Internal discourse relates to thinking, concentrating and analysing within one self. It might of day dreaming, praying or meditating.
  1. Solo-vocal
It is that communication which takes place while one shouts loudly for clarifying one-self or rehearsing, when you are talking to yourselves when students don’t do homework properly, you might talk yourself to remind on the next time to  redo it.
  1. Solo-written communication
It deals with writing for oneself and not for others. Like writing notes for your future use.
Merits and demerits of intra and interpersonal communication:
  1. Irreversibility of communication
Merits:
Once when interpersonal communication has taken place, it could not be hold back. When it has conveyed properly and in better way, there is always good impact
Demerits:
It is by contrast, when the communication was not properly flowed with good impact, it is always bad impression.
  1. Communication does not only be verbal communication
Merits:
When you are in good mood, you may convey to others in better way.
Demerit:
The communication might be of body language and it is really hard stop when something goes on emotionally, at that point of time, you may resort to have violence interaction.
  1. Situation
Merits:
The communication can also be depending on the situation, when situation will be calm both in psychologically and sociologically then communication would be flowed smoothly
Demerits:
It is by contrast, when the situation of discourse is in harsh and not good, the communication might not be good flow
Merits and demerits of intrapersonal communication
Demerits:
When the intrapersonal communication takes place, there is no feedback since there is no receiver to decode whatever he talks about himself.
Merits:

Intrapersonal communication does not need to wait for secondary feedback and it could take place whenever he/she wants
Intrapersonal communication does not need to wait for secondary feedback and it could take place whenever he/she wants

Courtesy : http://victimofred.wordpress.com/

Sunday, September 7, 2014

समय से संवाद


                                               बेचैन करती धुन


"ब तो हे तुमसे हर खुशी अपनी..."

अभिमान फिल्म के इस गाने के आगे मैं इतना कमजोर क्यूं होने लगता हूं?

दिन-दर-दिन बढ़ते-बढ़ते महीने-साल बीत गये लेकिन इस गाने में छिपा वो सबकुछ अब भी वैसा ही क्यूं है जो तब था, जब रात-दिन का फर्क मिट चुका था.

दीवार न होता तो किससे सट कर इतना पर्सनल होता!

तेरे प्यार में बदनाम दूर-दूर हो गये, तेरे साथ हम भी सनम मशहूर हो गये...देखो कहां ले जाए बेखुदी अपनी...

ये सबकुछ क्यूं नहीं खत्म हो जाता!

किस-किस इल्जाम को ढोता फिरूं ...कितने लोगों को जवाब दूं ...क्या-क्या जवाब दूं और कितना तक दूं! न सवाल खत्म होंगे न जवाब!

सवालों का मुकाबला करते-करते मिटने लगा हूं, भूलने लगा हूं...कभी छाता कभी कलम कभी पर्स कभी पेन ड्राइव कभी मोबाइल तो कभी लोकल का प्लेटफॉर्म...यह सिलसिला जारी है और ऐसा लगता है यह सब मेरे साथ ही खत्म होगा!

बस अगर कुछ नहीं भूल पा रहा हूं तो वह है मेरा अतीत जो भयानक वियावान से निकलती किसी दर्दनाक कराह की आवाज बनकर मेरे आसपास बहने वाली हवाओं में घुल सा गया है!

पूरी ताकत से मैं चिल्लाकर यह कहना चाहता हूं कि मैंने हार मान ली है!

हां, मैंने हार मान ली है! मैंने मान लिया है कि मैं अचानक सामने आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार नहीं हूं. चुनौतियां अप्वाइन्मेंट लेकर नहीं आती ये मैंने उस नोवेल में पढ़ा था जिसके किरदार के साथ मेरा भावात्मक रिश्ता है. क्या मेरी चीख सुनकर तुम्हें दया नहीं आती?

क्यूं नहीं उस शाप से मुझे मुक्त कर देते तुम?

गणित का एक आसान सा सवाल नहीं सुलझा सकने वाले किसी आदमी के सामने जिंदगी के इतने समीकरण हैं! ये समीकरण भी सूत्रों से ही हल किये जाते होंगे शायद!


जन्म-जन्मान्तर तक, अनंत के उस छोर तक और सबकुछ वीरान होने तक मैं अस्तित्व में रहूंगा. भले ही निहत्थे हारे हुए एकांकी की तरह!

Saturday, September 6, 2014

यादों में...



                    बीते पन्ने के लोग


मुंबई आने के बाद पीछे ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे यहां मिस किया है. सबकुछ मिलने के बावजूद कुछ है जो मिस हो रहा है का बिम्ब अब भी जस का तस है. अब तक समझ नहीं आया कि क्या है जो मिस हो रहा है!

करीब दो साल पहले अजय मिश्रा से लिफ्ट में पहली बातचीत हुई थी. सेकेंड फ्लोर की लिफ्ट के बाहर हमदोनों लिफ्ट के आने का इंतजार कर रहे थे. वो शो खत्म करके लौट रहे थे और मैं अपनी शिफ्ट खत्म करके. दरवाजा खुला. मैं रूक गया. मैंने महसूस किया वह भी रूके थे. बिना देर किये मैंने उन्हें पहले लिफ्ट में जाने के लिए आदरपूर्वक कहा.


मंडी हाऊस में अजय कु. मिश्रा के साथ     फोटो: सिद्धांत सिब्बल
लिफ्ट का दरवाजा बंद हुआ और मेरी किस्मत का दरवाजा खुल गया.

अजय मिश्रा डीडी न्यूज के बिजनेस ब्यूरो के हेड थे. चेहरे पर तेज था और आदमी थोड़ा जुनूनी टाइप के लगते थे. कम से कम लोगों से कामभर बातचीत और हमेशा पढ़ते रहने की आदत ने ही मुझे उनकी ओर आकर्षित किया था.

अजय मिश्रा ने मुझे अनुवाद का काम देना शुरू कर दिया. ज्यादातर अनुवाद बिजनेस से जुड़े होते थे. 

मैंने उनके नजदीक पहुंचने का कोई मौका नहीं छोड़ा और आखिरकार एक समय आया जब उन्होंने अपने बिजनेस वेबसाइट के कंटेट मेनैज करने की जवाबदेही मुझे दे दी.

अब मेरा नया दफ्तर था वैशाली. मंडी हाउस से वैशाली अप-डाउन होने लगा. दोनों के ठीक बीच यानि न्यू अशोक नगर में मेरा रहना होता था तब.

इस बात की टीस हमेशा रहती है कि उनके लिए मैं जितना कर सकता था उतना नहीं किया. टीस इसलिए क्योंकि उन्होंने कभी इसकी शिकायत नहीं की. अगर कभी कुछ कहा होता तो यह टीस कतई नहीं होती.

उनसे मिलने के बाद धीरे-धीरे अन्येन्दु सेनगुप्ता और अंशुमान तिवारी से नजदीकी बढ़ी और दोनों ही बाद में जाकर मेरी किस्मत को नई दिशा देने में निर्णायक साबित हुए.

बिजनेस जर्नलिज्म के तीन दिग्गजों के बीच रहकर बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा, पीएमआई रिपोर्ट, शेयर मार्केट सहित पर्सनल फाइनांस की बारीकियों को लिखने और समझने का जो मौका मिला उसे मैं अपनी जिंदगी की एक उपलब्धि ही मानता हूं.

वैशाली में मेक्सयोरमनी डॉट कॉम के दफ्तर में मेरी जगह

अगर चाहूं तब भी वो सुबह नहीं भुला सकता जब संघ सेवा के अधिकारी अन्येन्दु सेनगुप्ता ने अपने सरकारी आवास पर बुलाकर मुझे अपने बेशकीमती दो घंटे दिए थे बिजनेस जर्नलिज्म को समझाने में.

अजय मिश्रा ने अगर उस दिन मेरा फोन नहीं लिया होता तो मेरा चयन मुंबई के लिए कभी नहीं होता और मैं आज उस तसल्ली को भी नहीं हासिल कर पाता जो मैं अभी महसूस करता हूं.


अंशुमान तिवारी का ब्लॉग मेरे लिए रामबाण औषधि से कम नहीं था.

बहरहाल, अब आगे क्या होना है यह एक रहस्य सा है!