Wednesday, July 6, 2016

समय से संवाद



                                                      बकाया

हां अफसोस है! है अफसोस कि बने रास्तों को अपनाकर क्यूं नहीं टाल दी इस त्रासदी को! क्यूं इतना जोखिम मोल लिया कि संकरी गलियों में इस तरह फंस गया जैसे कोई पतंग किसी बड़े पेड़ के झाड़ में फंसती है। झटका दे देकर पतंग को छुड़ाने की कोशिश की जाती है। दोनो तरह के अनुभव हैं- पतंग के छूट जाने का भी और झटके से धागा टूट जाने का और पतंग का बेसहारा होकर वहां फंसे रह जाने का।

इस तरह मिलते मिलते छूट जाने का यह सिलसिला ही चल पड़ा है। शुक्र है कि मैं खुद से नजर मिलाकर यह कह पाता हूं कि अबतक जिन चीजों के कारण हमें सजा दी जा रही है, दी गई या दी जाएगी, उनमें मेरी कोई प्रत्यक्ष या परोक्ष भूमिका नहीं है।

एक ख्वाहिश जो पूरी होनी बाकी है वह है सोने की। एक तसल्ली भरी नींद। ऐसी नींद जिसमें कोई कोमा नहीं हो, सीधा पूर्ण विराम हो। एक ठहराव।

             Courtesy : Shyama G. Mishra

सुनो क्या तुम मेरी एक ख्वाहिश पूरी कर दोगी? क्या! नहीं पहले बोलो कर दोगी? पहले बोलो क्या। रहने दो। अच्छा ठीक है बोलो, कर दूंगी। पक्का न! अब बोलोगे या ऐसे ही करते रहोगे! सुनो अपना हाथ मेरे हाथ पर रखो। लो। देखो मुझे सोना है। हां वो तो तुम रोज सोते हो। नहीं, मैं रोज सोता नहीं हूं...कब से नहीं सोया मैंने..मैं बेहोश होता हूँ रोज...किसी शराबी की तरह बिस्तर पर, ट्रेन में, बस में या कहीं पर भी गिर जाता हूं, सोता नहीं मैं कभी। तुम पागल हो गये हो योगेश! प्लीज मुझे कुछ भी बोलो लेकिन योगेश मत बोलो...योगेश कभी सोएगा नहीं..जो तुमसे एक नींद मांग रहा है वह योगेश नहीं है। तो फिर वह कौन है? वह कोई भी है..कुछ भी नाम दे दो उसको लेकिन योगेश मत बोलो। ठीक है तुम्हें मैं नींद दूंगी लेकिन मुझे बदले में क्या दोगे तुम? मेरे पास कुछ नहीं है तुम्हें देने के लिए...फिर भी तुम्हें लगता है कि कुछ है मेरे पास जो मैं तुम्हें दे सकता हूं तो बिना मांगे ले लो। ठीक है तो तुम मुझे इजाजत दो कि जो नींद मैं तुम्हें दूंगी उसमें तुम मुझे अपने सपने में आने दोगे क्योंकि मैं भी चाहती हूं तसल्ली के कुछ पल तुम्हारे साथ बिताने के लिए।

क्या है जो है और क्या है जो नहीं है! क्यूं आए तुम बंबई? क्योंकि मैं जवाब देना चाहता था सबको। तो दे दिये न अब लौट क्यूं नहीं जाते मुख्यधारा में!

Thursday, June 30, 2016

एक छुट्टी का न मिल पाना


समय से संवाद

                                   इस तरह अकेला छूटते जाना...


ऑफिस वाला लड़का होने के बाद पहली बार छुट्टी न मिलने से ऐसी मायूसी हुई. एक साथ बहुत कुछ साधना व्यावहारिक रूप से समय समय पर ऐसे अनुभव देता रहता है.

बीते साल से ही फोन पर लगातार याद दिलाया जाता रहा कि 30 जून को तुम्हें हर हाल में घर पर रहना है. टिकट तक भेजने की बात हो चुकी लेकिन आखिरकार हुआ वही जिसका अंदेशा था. मम्मी-पापाजी की शादी की पचासवीं सालगिरह में मैं शामिल नहीं हो पाया.

मीडिया में आने के बाद ऐसा पहली दफा हुआ जब मुझे ऐसा लगा हो कि मैं अब वह लड़का नहीं रहा जो आसानी से कहीं भी कभी भी उपलब्ध हो सकता हूं.

कभी-कभी ऐसा लगता है कि खुद को कहीं गिरवी रख दिया है और जो रकम उसके बदले मिलती है उससे पढ़ाई कर रहा हूं. कब तक पढूंगा और कितनी पढ़ाई करूंगा यह सवाल कुछ लोगों ने किया है लेकिन जवाब मुझे खुद ही नहीं मालूम. सही यही है कि लाख प्रयास के बावजूद अगर आज छुट्टी नहीं मिली तो इसका कारण मेरी पढ़ाई ही रही, जिसके लिए मैंने एक महीने पहले ही करीब पंद्रह दिनों की छुट्टी ली थी.

पढ़ाई क्यूं जरूरी है? क्या पढ़ाई इतनी जरूरी है कि इसके सामने तमाम चीजों को दोयम कर दिया जाये.

पाश की एक कविता है "क्या क्या नहीं है मेरे पास"

क्या-क्या नहीं है मेरे पास
शाम की रिमझिम
नूर में चमकती ज़िन्दगी

लेकिन मैं हूँ
घिरा हुआ अपनों से
क्या झपट लेगा कोई मुझ से
रात में क्या किसी अनजान में
अन्धकार में क़ैद कर देंगे

मसल देंगे क्या
जीवन से जीवन

अपनों में से मुझ को क्या कर देंगे अलहदा
और अपनों में से ही मुझे बाहर छिटका देंगे
छिटकी इस पोटली में क़ैद है आपकी मौत का इन्तज़ाम
अकूत हूँ सब कुछ हैं मेरे पास
जिसे देखकर तुम समझते हो कुछ नहीं उसमें

Monday, June 27, 2016

Being interviewed



                       ...by a social news portal OPINDIA



Meet the journalism student who almost lost his career for shouting anti-Barkha Dutt slogans

Recently Barkha Dutt went on an overdrive to interview JNU Student Union’s President Kanhaiya Kumar, who was arrested and later released on conditional bail on charges of sedition after anti-India slogans were shouted on the campus. After coming out on bail, Kanhaiya gave an anti-government and anti-Modi speech, after which he has become the darling of some political parties and some sections of the media, especially of Barkha Dutt, who’s tweeting about him almost as much as she tweeted about her book a while back – basically making a strong sales pitch.
There is nothing wrong in interviewing someone, especially a student, who protested against the Prime Minister, but perhaps Barkha Dutt forgot how she reacted when a student protested against her.
It was back in 2011, when Anna Hazare led anti-corruption movement was at its peak and Radia tapes were leaked. Barkha Dutt was one of the journalists whose conversations with lobbyist Niira Radia were leaked and it was alleged as a proof of moral corruption and ethical wrongdoing, even if no proof of quid-pro-quo appeared to be there.
Many felt that journalists like Barkha Dutt had no moral rights to lecture about corruption when their own record was blemished. One of those who felt this was a journalism student at IIMC (Indian Institute of Mass Communication), which incidentally is situated in the JNU campus.
On the evening of 9th April 2011, this student, Yogesh Kumar Sheetal, was present at an anti-corruption gathering at India Gate in New Delhi. He saw Barkha Dutt present there, and he couldn’t control his anguish. He shouted a few slogans against Barkha and soon many joined him. Barkha had to leave the spot.
But it appears that she decided not to leave Yogesh so easily. A complaint against Yogesh was made to the Course Director at IIMC, and he was served a show cause notice. And that was just the beginning.
OpIndia.com decided to talk to Yogesh about what he had to experience after his expression of dissent. Following are the highlights of the interview.
Q: Did it all start with a complaint to your course director at IIMC, or were you warned of the consequences even before that? You have previously said you were intimidated…
Ans: No. Things came into action immediately after Barkha Dutt left the venue. People were getting extremely aggressive following physical assault by NDTV crews on protesters including women. I was not warned, I was directly targeted, but it misfired because of bad preparation by NDTV as they didn’t have the time to hatch a foolproof conspiracy. In less than half an hour, NDTV could only plan to file an assault case against me. NDTV’s Ruby Dhingra was planted as a victim and other crew members were presented as eye witnesses. It all started when a girl appeared out of the blue and started leveling number of serious allegations against me. I was stunned. Many people who gathered against Barkha Dutt had gone back to their work, but some of them were still walking around by that time.
During the same time, a lady and some protesters reached out to me to understand the situation. I didn’t notice that some protesters were still there. They knew what had happened and so they started shouting slogans again, and one of them exposed Ruby Dhingra. They explained to the police that I was innocent and the complainant has manufactured a story to malign me. After a short interrogation I was asked to go.NDTV did first mistake when Ruby appeared before me along with her crew, expecting me to be alone and easy to be targeted. I was caught by NDTV’s crew and dragged to police. She told police that I assaulted her and put other allegations too. Her allegations were promptly reinforced by her crew members. Neither Ruby nor any of her crew members informed the police that they’re from NDTV. They were trying to portray that they had come for Anna’s movement.
This was the starting point. The very next day I received a call from an unknown number. I was threatened that I would have to eat 22 Salfas tablets if I do not shut my mouth against Barkha Dutt. Perhaps the same day I was handed over a notice from IIMC, where I was a student of Hindi Journalism.
Q: When you were given a show cause notice by your institute, were you scared of your career?
Ans: I was disturbed because of back to back threatening calls, but I was not scared. I had nothing to lose, so I had no reason to be scared. But, let me confess that I turned pessimistic about my career. This should not be read as “scared”.
Q: How did you survive and manage to get a diploma from IIMC? Did that incident haunt you and you feared that you could be failed?
Ans: There’s a saying in English, “Fear of danger is worse than the danger itself”. I was psychologically under pressure. That episode didn’t haunt me in IIMC since IIMC is not a Private Company like NDTV. Had I failed, I would have filed an RTI. I was prepared for that.
Q: How tough was it to get a job after getting the diploma? Were you told in clear terms that your slogan shouting against Barkha Dutt was something that was working against you?
Ans: One can understand it very easily. I don’t wish to recall those unpleasant days anymore but I do wish to recall one thing again and again. Due to this entire incident, I could meet A S Raghunath Sir, Anil Kohli Sir and many people. Twitter made everything possible for me. Raghunath Sir arranged my internship in a Hindi Tabloid Newspaper and till now I’m blessed with the guidance of Raghunath Sir and Anil Kohli Sir.
Q: What is your family background? Could you have afforded not getting a job due to such vindictive attitude of a celebrity journalist?
Ans: I belong to an average middle class family based in Begusarai, Bihar. It’s tough for me to imagine what I would have done had I not been helped by A S Raghunath Sir. I think I could have moved back to Bihar and started preparations for a competitive examination after ditching my dream to be a journalist. I always remember a couplet of famous Hindi poet Pash “Sabse khatarnak hota hai sapno ka mar jana“. I’m fortunate that my dream still survives and I want to be known as a journalist till my life.
Q: Did you ever try to get in touch with Barkha Dutt or someone in the NDTV to apologize or to “settle” the matter so that your career progresses smoothly?
Ans: I dismissed this idea with the contempt it deserved. I was residing in New Ashok Nagar, Delhi and getting Rs 6788/- as salary. It was a very difficult situation for me. For 2 years, I have had the worst phase of my life. There were days when I didn’t even have money to recharge my cellphone or to fulfil my daily basic needs like newspaper and magazines. There were days when I could only manage to make missed calls to people and get frustrated when people didn’t give a call back. However, every time I thought of settling things, I felt like I was betraying my well wishers.
Credibility is everything. If you don’t have integrity, credibility, character, discipline, manner, self confidence or determination or commitment, you can never get a sound life. Today, I don’t have money, I don’t have bank balance, I’m earning only Rs 31,000 in Mumbai and facing serious difficulties in my livelihood, but I’m happy because I’m not compromised. I have a lot to learn and I’m learning in Mumbai. I have my parents and they are my assets. I’m confident to speak to Raghunath Sir and Kohli Sir, that’s enough for me! I don’t need to shy away or run away from anything or anywhere. I’m happy.
Q: When and where did you finally get a job?
Ans: DLA, a tabloid newspaper, which is based in Agra, was the first newspaper where I got a chance to work as a sub editor in its Noida Edition in June, 2011. I always remember my DLA days where I learnt so many things from Shri Virendra Sengar and my colleagues.
Q: In retrospect, do you think you should not have taken the initiative and shouted slogans against Barkha? It doesn’t seem to have helped you a bit?
Ans: There’s a quote in English, “I don’t regret what I did but I regret what I didn’t do when I had time”. Same thing with me. I don’t think I should not have taken the initiative, in fact I think I should have taken this initiative more effectively. I have no regrets.
Q: Recently entire media lauded a Zee News reporter when he quit the organization accusing it of bias. Do you think the media will ever laud, or even report fairly, if someone quits an organization like NDTV accusing someone like Barkha?
Ans: I don’t know how to respond this question because I’ve least interest in News Channels’ internal politics.
Q: Has anyone, say your batchmates from IIMC who might be employed at NDTV or any other organization, confided in you about such inherent bias that they can’t talk about or revolt against? You are free not to reveal someone’s name and organization for obvious reasons.
Ans: To be very honest, I came to IIMC for getting a certificate not for learning journalism. IIMC is a good place for learning politics, not journalism. All students, who cracked entrance and interview, are already journalists. I’m still surviving in news industry because I know politics and I would like to extend my deep thanks and gratitude to my IIMC teachers for teaching me politics directly or indirectly. IIMC and NDTV seem to be locked in a relationship and both oblige each other in different ways.
Q: When you see Barkha Dutt supporting free speech and eulogizing someone like Kanhaiya for daring to take on the government, how do you feel?
Ans: Now, I have no time to feel anything. I have a lot many better thing to think and do in life. I search good stories and work on that and try to bring something worth watching for my audience. Barkha Dutt supporting free speech is like a CEO of a tobacco company campaigning for Cancer awareness.
Courtesy : OPINDIA.COM

Sunday, June 19, 2016

अकस्मात सा कुछ


                                           मिथुन का इस तरह जाना


ऐसे समय में जब स्कूल और कॉलेज के सहपाठियों के शादी की फोटो हर कुछ दिनों में फेसबुक पर देखने को मिलती है, मिथुन के अचानक न होने की खबर ने कुछ देर के लिए सबकुछ रोक दिया।

महाराष्ट्र प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी की दो दिनों की बैठक कवर करने परसों रात ही पुणे आया था। आज नितिन गडकरी का समापन भाषण था। उनकी बातों को वाट्सएप पर नोट कर रहा था तभी जितेन्द्र ने स्कूल के ग्रुप पर यह मनहूस खबर दी। कुछ देर के लिए तो लगा कि वह मजाक कर रहा है! मैसेज इग्नोर कर दिया।

अगले ही पल उसने मिथुन की निर्जिव फोटो डाल दी ग्रुप में। मन मानने को फिर भी तैयार नहीं हुआ और लगा कि तस्वीर किसी फोटो एडिटिंग एप से एडिट करके जितेंद्र ने मजाक में डाली है। फोटो जूम करके देखा तो मन बुझ गया।

मिथुन और मैं साथ में बेगूसराय के काॅलेजियट स्कूल में पढ़ते थे। हालांकि मेरी उससे नजदीकी कभी नहीं थी लेकिन हमदोनों एक दूसरे को जानते थे। उसको स्कूल के समय में कभी करीब से जानने या समझने की मेरी जिज्ञासा नहीं रही क्योंकि वह मेरी तरह का लड़का नहीं था।



करीब साल भर पहले मुंबई की आबोहवा से ऊब कर वापस लौटने की अजीब बेचैनी महसूस हुई तो स्कूल के दोस्तों को याद करने लगा. कक्षा सात में गणित के शिक्षक विश्वम्भर सर का सबसे चहेता छात्र था चंदन.

फेसबुक के सर्च बॉक्स में उसका पूरा नाम डाला तो वह एक बार में मिल गया. अगले पल फ्रेंड रिक्वेस्ट पर क्लिक करने के साथ ही सरसरी निगाह से उसके प्रोफाइल को चेक किया तो पता चला कि वह सऊदी अरब में रह रहा है. अच्छा लगा. फिर उससे फोन पर बात हुई और इस तरह तय हुआ कि स्कूल के जितने भी लड़के संपर्क में हैं सबको एक वाट्सएप ग्रुप में शामिल किया जाये. मिथुन भी उस ग्रुप में शामिल किया गया.

बाद में जब मेरा एक बार बेगूसराय जाना हुआ तो सालों बाद उस
वाट्सएप ग्रुप में जितने सहपाठी थे उनमें से जो भी बेगूसराय में था, उससे मिलना हुआ. पहले बनी योजना के अनुसार हमलोग चाट खाए और लस्सी पीये. मिथुन का मन जुबिली ढावा जाने का था, लेकिन मेरे न करने पर पूरी योजना खराब हो गई. मिथुन जिंदगी का ज्यादा लोड न लेने वाला लड़का था, जहां तक मैं उसे समझ पाया था. अपनी समझदारी के हिसाब से वह बात करता और दूसरे की बात पर अपनी बात को ऊपर रखने के लिए आक्रामक रुख अपनाता.

एक अफसोस यह है कि अगर मुझे यह पता होता कि उस रात की मुलाकात मेरी और मिथुन की आखिरी मुलाकात थी तो मैं उसके कहने पर जुबिली ढावा जरूर जाता. भले ही आदतन शराबी नहीं हूं लेकिन उसके कहने पर अपने बनाए नियमों को भी तोड़ देता. अब यह मलाल तो रहेगा हरदम कि उसके साथ मेरी आखिरी मुलाकात अधूरी ही रह गई!

शांति दे मौला उसकी आत्मा को!

-----

प्रिय आकाश,

ये जो तुम्हारा सन्नाटा है उसे कभी हिम्मत करके देखता हूं मैं. कितना शोर है यहां और कितनी तसल्ली है वहां तुम्हारे पास. पता है तुम्हें मुझे पहाड़ों पर अकेला चलना बहुत पसंद है. पुणे के पुरंदर किले को देखने की जब मैंने इच्छा जताई तो मेरे ड्राइवर ने मना कर दिया. सेना के एक जवान से मैंने कितना भी आग्रह किया लेकिन उसने मोबाईल ले जाने मना कर दिया.

ड्राइवर को गाड़ी में छोड़ कर मैं जब उतनी ऊंचाई पर बिना किसी संपर्क यंत्र के अकेला गया तो तुम्हारे बहुत करीब आया मैं. शिवाजी के किले से एकबारगी लौटने का मन किया लेकिन फिर सुनने में आया कि और ऊपर शिवजी का एकांत में कोई मंदिर है. मन नहीं माना तो आगे बढ़ गया. पसीने से तर होकर आखिर पहुंचा मैं वहां जहां से सुदूर बस बादल और शांति दिखाई दे रही थी.

वो जगह मेरे मन में अब बैठ गया है. आगे कभी पुणा जाना हुआ तो फिर से उस ऊंचाई पर अकेला चढ़ाई करूंगा.

मेरा एक स्कूल का दोस्त गया है तुम्हारे पास अपना शरीर नीचे छोड़कर. तुम्हें पता है कि मैं कभी किसी को दोस्त नहीं कहता. सहपाठी, साथी, परिजन वगैरह कहता हूं. दोस्त इसलिए कह रहा हूं कि तुम मिथुन का बाकी लोगों से भेद कर पाओ. उसे तसल्ली देना.

तुम्हारा!

------

और अंत में,

अलविदा मिथुन गांधी


Saturday, June 18, 2016

समय से संवाद


                                                         दरबदर


क्या लिखने से कुछ होगा? क्या इस दौर को अगर हूबहू कागज या ब्लाॅग के उस डब्बे में उतार दिया जाए तो कुछ होगा! उम्मीद और आशा किससे है तसल्ली की!

देर रात डेढ बजे भी घड़ी की सुइयां वैसे ही चलती हैं जैसे सुबह नौ बजे की। नौ बजे से पहले भी शायद वैसे ही चलती होंगी और रात दो बजे के बाद भी वैसे ही। दिवाल घड़ी की बैट्री आखिरी बार बेगूसराय में बदली थी। चप्पल खोलकर टेबल पर चढकर घड़ी उतारना फिर उसमें नई बैट्री डालना जैसे किसी मुर्दे में जान डाली गई।

जीवन का यह सतत प्रवाह घड़ी के जैसा ही है। सुबह से आधी दोपहर, आधी से पूरी दोपहर, पूरी दोपहर से आधी शाम फिर पूरी शाम और फिर रात का क्रमश: पहला, दूसरा और तीसरा पहर और तीसरे पहर के बाद सुबह की धूप।

तुम इन सब के बारे में सोचना बंद क्यूं नहीं कर देते? क्या तुम ये चाहते हो कि मैं जीना छोड़ दूं! ऐसा तो नहीं कहा मैंने, मैंने तो बस इतना कहा कि तुम इन सब बातों के बारे में हमेशा क्यूं सोचते हो...और भी तो बातें हैं सोचने के लिए। जैसे? जैसे कुछ भी...सोचो कि आगे क्या करना है या फिर कुछ अच्छा सोचो। आगे क्या करना है यह सोचने की उम्र बीत चुकी इसलिए उस बारे में नहीं सोचता हूं। तुम हमेशा उम्र को क्यूं बीच में लाते हो,अभी तो सत्ताइस पार किए हो। उम्र की गिनती साबुन की गिनती से अलग है। फिर वही दार्शनिक वाली बात...छोड़ो चलो यहां से...बहुत नेगेटिव वाइब्स है यहां। मैं जहां जाऊंगा वहां ऐसे वाइब्स आ ही जाएंगे। तुम खुद को इतना मनहूस क्यूं समझते हो यार! क्योंकि मैं हूं।

देखो ये जो वक्त है न यह बीत जाएगा। इसके बाद वाला वक्त भी बीतेगा और उसके बाद वाला वक्त भी। रह जाती है बस उस वक्त में बीती चीजें, जिन्हें हम याद कहते हैं।

अच्छा ये बताओ कि तुम्हारी अबतक की सबसे अच्छी याद क्या है...झट से बताओ बिना सोचे...! ... ! तुम सोचने लगे न...बोला था झट से बताने... तुम कोई भी काम बिना सोचे नहीं कर सकते क्या! नहीं। मैंने बोला तो भी नहीं! मेरे बस में ही नहीं है। अच्छा खूब सोचकर बताओ कि तुम्हारी अबतक की सबसे अच्छी याद क्या है? कोई सबसे अच्छी याद नहीं है...हां कुछ अच्छी यादें हैं जैसे पापाजी ने उस दिन फोन पर कहा था कि गांव में वह काम मेरी वजह से आसान हो गया, बरौनी में भी मेरे होने का असर हुआ और इतने सारे मैसेज, मेल वगैरह ये सब अच्छी यादें ही तो हैं। अच्छा ये बताओ सबसे बुरी याद क्या है? उस आदमी का उस रोज मुझे उस जगह मारना। ये तुम हो योगेश...यही तुम हो...जिस दिन तुम जिस तरह बिना सोचे अपने जिंदगी के सबसे बुरे समय को याद कर लेते हो उसी तरह जिस दिन बिना सोचे सबसे अच्छे समय को याद कर लोगे, उस दिन यह दौर बीत जाएगा।

प्रिय तुम,
            अब आ जाओ। बाकी अगले खत में।

तुम्हारा समय!